Events Corner

डॉक्टर पाउला पारेतो टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुकी हैं, लेकिन ओलंपिक गेम्स टल जाने के बाद वो अर्जेंटीना के अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रही है

नईदिल्ली: महामारी का जोर पूरी दुनिया में बढ़ता ही जा रहा है. विश्व में इस जानलेवा महामारी की चपेट में 44 लाख से ज्यादा लोग आ चुके हैं, जिनमें से करीब 3 लाख की मौत हो चुकी है. दुनिया भर के देश इस महामारी से निपटने के लिए मेडिकल स्टाफ की कमी से जूझ रहे हैं. ऐसे में खेल जगत में अपनी वाहवाही कराने के साथ ही चिकित्सा जगत में भी हाथ आजमा रहे बहुत सारे खिलाड़ी भी इस संक्रमण के खिलाफ जंग में अपने-अपने देश की मदद करने के लिए मैदान में उतर चुके हैं. अर्जेंटीना की एक ऐसी ही चैंपियन जूडो खिलाड़ी डॉक्टर का वीडियो ओलंपिक चैनल ने अपने टिवटर हैंडल पर पोस्ट करते हुए उसकी बहादुरी को सैल्यूट किया है.

रियो ओलंपिक की गोल्ड मेडल विनर हैं पाउला

ओलंपिक चैनल ने जिस डॉक्टर पाउला पारेतो  का वीडियो अपलोड किया है, वो 2016 के रियो ओलंपिक खेलों में अर्जेंटीना के लिए जूडो में 48 किलोग्राम भार वर्ग का गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं. करीब 34 साल की पारेतो इससे पहले 2008 के बीजिंग ओलंपिक में भी इसी भार वर्ग में ब्रांज मेडल विजेता रही थीं. वो 3 वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी एक गोल्ड, एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं

Advertisements

Email Subscriber

Latest

Advertisements